🗡️ इन्फैंट्री के सम्मान में  🗡️ लेखक मेजर जनरल अभि. परमार (रि.)

Loading

तू अजेय निर्भीक है
शक्ति का प्रतीक है
तू गर्व है अभिमान है
विजय का निशान है

तू शौर्य की हुंकार है
रणशत्रु का संघार है
युद्ध में अधिराज है
तू देश का आधार है

रक्त से करके तिलक
जब करे तू शंखनाद
काँप उठता शत्रु थरथर
सुन के तेरा सिंहनाद

क्या सियाचिन क्या मरुस्थल
सब जगह है तू खड़ा
जब कभी आयी विपत्ति
हर शत्रु पर भारी पड़ा

सैनिकों का दंभ है तू
वीरता का स्तंभ है तू
देश की अखण्डता
का
सर्वोच्च मापदंड है तू

Long live the Infantry 🗡️

लेखक मेजर जनरल अभि. परमार (रि.)

लेखक – मेजर जनरल अभि परमार वीएसएम (सेवानिवृत्त), दिसंबर 1969 में आईएमए से इन्फैंट्री (द राजपूत रेजिमेंट) में कमीशन अधिकारी बने थे । उन्होंने रेगिस्तान, जम्मू-कश्मीर, सिक्किम और पूर्वोत्तर में और विभिन्न  मुख्यालयों एवं  प्रशिक्षण प्रतिष्ठान  में विभिन्न नियुक्तियों पर भी काम किया है। । वह महानिदेशक भारतीय गोल्फ संघ (2009 – 2014) थे। सेवानिवृत्ति के बाद और अपने शौक, गोल्फ, यात्रा और लेखन को पूरा करने के बाद वे “स्ट्राइव”, (STRIVE),  थिंक टैंक के अध्यक्ष हैं।

Disclaimer: अस्वीकरण: व्यक्त किए गए विचार लेखक के हैं और जरूरी नहीं कि वे उस संगठन के विचारों का प्रतिनिधित्व करते हों जिससे वह संबंधित है या स्ट्राइव (STRIVE) का है।